Opinion

Groom shopping, anyone?

The price is generally paid in the form of cash, jewellery, household appliances, furniture, or vehicles.

Advertisements
Poetry, Uncategorized

क्यूंकि हम घर नहीं, मकान में रहते है!

पुराने खपड़े के घर में लंबे चौड़े आंगन हुआ करते है मटर के दानों के बीच घर की औरतों में नाजाने कितने किस्से पक्ते थे।   Watch me perform on this poetry . https://youtu.be/cXPj7DOuqO8

Poetry

नमन आपको श्री अटल बिहारी।

राजनीति के प्रांगण में एक माली था उस आंगन में लालकृष्ण जी जिनके मित थे भावपूर्ण उनके गीत थे! सुंदर सुंदर फूलों से ना जाने सजाई थी उन्होंने कितनी क्यारी, (२) अन्तिम क्षण में, सब फूलों को रुला गए वो अटल बिहारी। मै उनकी बात करती हूं, वो देश की बात करते थे देश के… Continue reading नमन आपको श्री अटल बिहारी।